भावज्ञेन कृतज्ञेन धर्मज्ञेन च लक्ष्मण

भावज्ञेन कृतज्ञेन धर्मज्ञेन च लक्ष्मण

May 23, 2024 - 11:09
 0  53
भावज्ञेन कृतज्ञेन धर्मज्ञेन च लक्ष्मण

भावज्ञेन कृतज्ञेन
धर्मज्ञेन च लक्ष्मण।
त्वया पुत्रेण धर्मात्मा
न संवृत्तः पिता मम।।
(वा. रामायण, अरण्य का. - १५/२९)

अर्थात् - (कृतज्ञ और धर्मज्ञ पुत्र के पिता इस लोक में सदैव जीवित रहते हैं - श्रीराम वचन) हे लक्ष्मण! तुम मेरे मनोभाव को तत्काल समझ लेनेवाले, कृतज्ञ और धर्मज्ञ हो। तुम जैसे पुत्र के कारण मेरे धर्मात्मा पिता अभी मरे नहीं हैं - वे तुम्हारे रूप में अभी भी जीवित ही हैं। (भारत के पुत्रों को कृतज्ञ और धर्मज्ञ होने का संकल्प लेना चाहिए।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow