अमृतवाणी

Jun 2, 2024 - 05:39
 0  41
अमृतवाणी

वयस: परिमाणोsपि य: खल: खल एव स:।

सुम्पक्वमपि माधुर्यं नोपयातीन्द्रवारुणम्।।

(चा०नी० - १२/२०)

अर्थात् - अवस्था के पक जाने पर भी (अर्थात् वृद्ध हो जाने पर भी) जो दुष्ट है, वह दुष्ट ही रहता है, अपनी प्रवृत्ति का त्याग नहीं करता, जैसे - अत्यंत पकी हुई कड़वी तोरई भी मीठी नहीं होती।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow