अमृत वाणी

Jun 1, 2024 - 04:43
 0  44
अमृत वाणी

प्रमाणं ग्रामवचनं विवाहादौ तथात्यये।

यतः परम्परायातं धर्मं विन्दन्ति ते खलु।।

(ज्योतिर्निबन्ध - पृष्ठ १०५/ ३)

अर्थात् - विवाह और मरण संस्कार में ग्रामवचन प्रमाण होता है, क्योंकि ग्रामीण परम्परा से धर्म को जाननेवाले होते है।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow